धर्म कथाएं

आज का राशिफल और आज का पंचाग साथ ही जानेंगे तुलसी का सुख जाना है नजर दोष

पी. एस. त्रिपाठी… आज का पंचाग.
दिनांक 10.08.2020… शुभ संवत 2077 शक 1942 सूर्य दक्षिणायन का भाद्रपद कृष्ण पक्ष सप्तमी तिथि … प्रातः को 06 बजकर 44 मिनट से … दिन … सोमवार … अश्विनी नक्षत्र … रात्रि को 10 बजकर 09 मिनट तक … आज चंद्रमा … मेष राशि में … आज का राहुकाल प्रातः को 07 बजकर 18 मिनट से 08 बजकर 55 मिनट तक होगा …

घर में तुलसी के पौधे की उपस्थिति एक वैद्य के समान है यह वास्तु के दोष भी दूर करने में सक्षम है। हमारे शास्त्र इसके गुणों से भरे पड़े हैं, जन्म से लेकर मृत्यु तक काम आती है यह तुलसी…। माता के समान सुख प्रदान करने वाली तुलसी का वास्तुशास्त्र में विशेष स्थान है।
पुराणों और शास्त्रों के अनुसार ऐसा इसलिए होता है क्योंकि जिस घर पर मुसीबत आने वाली होती है उस घर से सबसे पहले लक्ष्मी यानी तुलसी चली जाती है क्योंकि दरिद्रता, अशांति या क्लेश जहां होता है वहां लक्ष्मी का वास नहीं होता. आपके घर, परिवार या आप पर कोई मुसीबत आने वाली होती है तो उसका असर सबसे पहले आपके घर में स्थित तुलसी के पौधे पर होता है? घर या परिवार के मुखिया को नजर दोष लगे तो तुलसी सबसे पहले सुखती है। उस पौधे का कितना भी ध्यान रखें धीरे-धीरे वह पौधा सूखने लगता है। तुलसी का पौधा ऐसा है जो आपको पहले ही बता देगा कि आप पर या आपके घर, परिवार को किसी मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है।
वास्तु दोष को दूर करने के लिए तुलसी के पौधे अग्निकोण अर्थात दक्षिण-पूर्व से लेकर वायव्य उत्तर-पश्चिम तक के खाली स्थान में लगा सकते हैं। यदि खाली जमीन न हो तो गमलों में भी तुलसी को स्थान देकर सम्मानित किया जा सकता है।
कन्या के विवाह में विलम्ब हो रहा हो तो अग्निकोण में तुलसी के पौधे को कन्या नित्य जल अर्पण कर एक प्रदक्षिणा करने से विवाह जल्दी और अनुकूल स्थान में होता है। सारी बाधाएं दूर होती हैं।
यदि कारोबार ठीक नहीं चल रहा हो तो दक्षिण-पश्चिम में रखे तुलसी के गमले पर प्रति शुक्रवार को सुबह कच्चा दूध अर्पण करें और मिठाई का भोग रखकर किसी सुहागिन स्त्री को मीठी वस्तु देने से व्यवसाय में सफलता मिलती है।
नौकरी में यदि उच्चाधिकारी की वजह से परेशानी हो तो आफिस में खाली जमीन या किसी गमले आदि जहां पर भी मिट्टी हो वहां सोमवार को तुलसी के सोलह बीज किसी सफेद कपड़े में बांध कर सुबह दबा दें। सम्मान की वृद्धि होगी। नित्य पंचामृत बना कर यदि घर की महिला शालीग्राम जी का अभिषेक करती है तो घर में वास्तु दोष हो ही नहीं सकता।
माना जाता है कि घर में तुलसी का पौधा लगाने से बुरी आत्माओं का वास नहीं होता। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, घर के बाहर तुलसी का पौधा लगाने से बुरी आत्माएं घर में प्रवेश नहीं कर पाती।
वास्तु दोष दूर करें
जो पौधा घर के लिए शुभ होता है, तो यह वास्तु दोष दूर करने में भी अच्छा माना जाता है। तुलसी के पौधे को घर की उत्तर या पूर्व दिशा में रखें। इससे कई दोष दूर हो जाते है।
अच्छी किस्मत का प्रतीक
तुलसी के पौधे को एक अच्छी किस्मत का प्रतीक भी कहा जाता है। इसको घर में लगाने से बिजनेस में तरक्की मिलती है। साथ ही इसके पत्तों को खाने से सेहत अच्छी रहती है।
तुलसी पवित्र पौधा
आपको कई घरों में तुलसी दिख जाएंगी क्योंकि हिंदू धर्म में तुलसी को पवित्र पौधा माना जाता है, जिसे घर में लगाना शुभ माना जाता है।
तुलसी देवी लक्ष्मी का स्वरूप
तुलसी के पौधे को वास्तव में देवी लक्ष्मी का रूप माना जाता है, जबकि सूर्य को भगवान विष्णु माना जाता है, इसलिए शायद दोनों एक-दूसरे के बिना नहीं रह सकते हैं।
धार्मिक समारोह का हिस्सा
तुलसी को केवल घर पर ही नहीं रखा जाता है, बल्कि इसे हिंदू धार्मिक त्योहारों और कई शुभ कार्य में भी इस्तेमाल किया जाता है।
घर में सकारात्मक ऊर्जा
वास्तु के अनुसार तुलसी को देवी का अवतार माने जाने के कारण इसे सकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव बढ़ता है। बस ध्यान रखें कि इसको सही दिशा में ही लगाएं।
इन दिनों में नहीं तोड़ना चाहिए तुलसी के पत्ते-
शास्त्रों के अनुसार तुलसी के पत्ते कुछ खास दिनों में नहीं तोड़ने चाहिए। ये दिन हैं एकादशी, रविवार और सूर्य या चंद्र ग्रहण काल। इन दिनों में और रात के समय तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ने चाहिए। बिना उपयोग तुलसी के पत्ते कभी नहीं तोड़ने चाहिए। ऐसा करने पर व्यक्ति को दोष लगता है। अनावश्यक रूप से तुलसी के पत्ते तोड़ना, तुलसी को नष्ट करने के समान माना गया है।
पौधा सूख जाने के बाद तुरंत ही दूसरा तुलसी का पौधा लगा लेना चाहिए। सूखा हुआ तुलसी का पौधा घर में होने से बरकत पर बुरा असर पड़ सकता है। इसी वजह से घर में हमेशा पूरी तरह स्वस्थ तुलसी का पौधा ही लगाया जाना चाहिए।

आज के राशियों का हाल तथा ग्रहों की चाल

मेष -साधु-संतो तथा गुरूजनों का साथ….. मानसिक प्रसन्नता तथा उदारचित्त…. यश-प्रतिष्ठा की प्राप्ति….
स्पष्टवादी से नजदीकी रिश्तों में विवाद.. उपाय करें…. ऊॅ अं अंगारकाय नमः का जाप करें… हनुमानजी की उपासना करें

वृषभ-काम को लेकर एकाग्रता में वृद्धि, दोस्तो से विवाद, व्यवहार में चिडचिडापन हो सकता है, धैर्य से काम लें….. बचाव के लिए -उॅ नमः शिवाय का जाप करें… दूध, चावल का दान करें…

मिथुन -चित्त में कार्य के प्रति असावधानी, सारा दिन पार्टी और मौज-मस्ती में ध्यान, संतान के कैरियर को लेकर अनिश्चितता.. धन से संबंधित बुरी खबर…. निवृत्ति के लिए – ऊॅ शुं शुक्राय नमः का जाप करें… महामाया के दर्शन करें…

कर्क -मनोबल काफी अच्छा होगा, परिवार के किसी विशेष जिम्मेदारी का सफलता पूर्वक निवर्हन से आज मन प्रसन्न रहेगा, कार्य व्यवसाय में सफलता एवं बेहतर प्राप्तियां….. उपाय करें- ‘‘ऊॅ शं शनैश्चराय नमः’’ की एक माला जाप कर दिन की शुरूआत करें. तिल…गुड….से बने लड्डू का भोग लगायें….

सिंह -पारिवारिक व्यक्ति के साथ काम करके लाभ….जीवनसाथी का पारिवारिक दायित्व के निवर्हन में अच्छा सहयोग, अधिकारी तथा सत्तापक्ष से विशेष लाभ….थोड़ी पारिवारिक कलह की संभावना… निवृत्ति के लिए –
ऊॅ बुं बुधाय नमः का एक माला जाप कर गणपति की आराधना करें… दूबी गणपति में चढ़ाकर मनन करें,

कन्या-विवादों से मन अशांत होगा, गले में तकलीफ, पारिवारिक कलह से मानसिक अशांति उपाय आजमायें -ऊॅ धृणि सूर्याय नमः का पाठ करें….. गुड़.. गेहू…का दान करें..

तुला-आज वाहन, परिवार का साथ तथा सुख मिलेगा, यात्रा से अच्छे लाभ तथा किसी पुराने विशिष्ट व्यक्ति से मुलाकात संभव, ओवर बजट हो सकता है… निवारण के लिए -उॅ नमः शिवाय का जाप करें… दूध, चावल का दान करें…

वृश्चिक-पारिवारिक सदस्य के साथ धार्मिक कृत्य कर सकते हैं, सभी का साथ एवं किसी कीमती वस्तु की खरीदी भी संभव… लंबे समय से इच्छित कोई महत्वपूर्ण संपत्ति के क्रय से मन प्रसन्न…. शांति के लिए-ऊॅ भौं भौमाय नमः का एक माला जाप करें…. लड्ड़ का भोग लगायें….

धनु-यात्रा के बाद वापसी करेंगे….. किसी प्रकार के नये अवसर की प्राप्ति होगी…. आर्थिक स्थिति यथावत् रहेगी…. उपाय करें…. पौधे का दान करें…..इलायची खायें एवं खिलायें…..

मकर-सजावटी सामान का नुकसान… अध्ययन से मानसिक भटकाव…. दोस्तों से विवाद…. उपाय-उॅ नमः शिवाय नमः का जाप करें… दूध, चावल का दान करें…

कुंभ-वैचारिक मतभेद से मानसिक अषांति संभव… काम में रूकावट तथा बिजनेस पार्टनर से तालमेल में कमी… काम अचानक रूकने या बाधा आने से मानसिक अषांति संभव… उपाय-ऊॅ गुरूवे नमः का जाप करें… पीली वस्तुओं का दान करें…

मीन-पारिवारिक अषांति से मानसिक कष्ट….व्यसन या गलत संगति हानिकारक…. सामाजिक कामों के लिए यात्रा…. निवृत्ति के लिए -‘‘ऊॅ शं शनैश्चराय नमः’’ की एक माला जाप कर दिन की शुरूआत करें. भगवान आशुतोष का रूद्धाभिषेक करें,

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Technically Supported By : Infowt Information Web Technologies

error: Content is protected !!