धर्म कथाएंधार्मिक स्थल

यहां देवी लक्ष्मी के चरण पखारने आता है सूर्य

Hotel Rasika Renaissance Mahalaxmi temple Kolhapur

kolhapur lakshmi temple, Kolhapur city situated in the south-west corner of Maharashtra

भारत देश में चमत्कारों की कमी नही हैं एक ऐसा ही चमत्कारी मंदिर है मां लक्ष्मी का, लेकिन ये किसी तरह का जादू कम और आर्किटेक्चर का कमाल ज्यादा लगता है। यहां दीपावली पर देवी लक्ष्मी की पूजा की जाती है। इस दिन प्रमुख लक्ष्मी मंदिरों में भी भक्त दर्शन करते जाते हैं। मुंबई से लगभग 400 किमी दूर कोल्हापुर महाराष्ट्र का एक जिला है जहां धन की देवी लक्ष्मी का यह मंदिर है। kolhapur lakshmi temple

मंदिर करीब 1300 साल पुराना

यहां मराठी कल्चर होने की वजह से देवी लक्ष्मी को अम्बा जी के नाम पुकारा जाता है। यह स्थान बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। इस मंदिर की सबसे खास बात यह है कि यहां पर देवी लक्ष्मी की आराधना और कोई नहीं बल्कि सूर्य की किरणें करती है। यह मंदिर करीब 1300 साल पुराना है। दुनिया के सबसे प्राचीन महालक्ष्मी मंदिर में से एक इस मंदिर की बनावट ऐसी है कि यहां प्रतिदिन दिवाली जैसा नजारा रहता है।

Read also: गजलक्ष्मी व्रत : इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा

साल में 2 बार नजर आाता है ये अद्भुत नजारा

अस्ताचल सूर्य की किरणें गर्भगृह में महालक्ष्मी की प्रतिमा को साल में दो बार नवंबर और जनवरी में तीन दिनों तक स्पर्श करती हैं। हर साल नवंबर में 9 10 और 11 तारीख को और इसके बाद 31 जनवरी 1 और 2 फरवरी को। पहले दिन ये चरणों से प्रारंभ होती है। और देवी माता मे चरण स्पर्श करती हैं। दूसरे दिन कमर और तीसरे दिन चेहरे पर जैसे ही ये पड़ती हैं अलौकिक दृश्य दैदिप्यमान हो उठता है। चेहरे की आभा सूर्य के तेज के साथ अद्भुत नजर आती है। इस नजारे को देखने हजारों लोक एकत्रित होते हैं और इसे किरणोत्सव के नाम से जाना जाता है।

Read also: सुगंध नदी के किनारे अद्भुत सुनंदा शक्तिपीठ

दाएं बाएं दो अलग गर्भगृहों में महाकाली और महासरस्वती

काले पत्थरों पर कमाल की नक्काशी हजारों साल पुराने भारतीय स्थापत्य की अद्भुत मिसाल है। मंदिर के मुख्य गर्भगृह में महालक्ष्मी हैं उनके दाएं बाएं दो अलग गर्भगृहों में महाकाली और महासरस्वती विराजीं हैं। इन्हें देवी माता सती के 51 शक्तिपीठों में से एक माना जाता है। दिवाली की रात दो बजे मंदिर के शिखर पर दीया रोशन किया जाता है जो अगली पूर्णिमा तक नियमित रूप से जलता है। यह प्रतिमा करीब दो हजार साल पुरानी बतायी जाती है। नवरात्रि उत्सव पर भी यहां का दृश्य बेहद आकर्षक होता है। Mahalaxmi temple Kolhapur

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Technically Supported By : Infowt Information Web Technologies

error: Content is protected !!