धर्म कथाएंधार्मिक स्थल

उत्तराखंड: क्या यहाँ रहते हैं देवता?

“देवभूमि” के नाम से प्रसिद्ध उत्तराखंड, हिंदू धर्म में अपना एक अलग ही स्थान रखता है, जैसा कि प्रसिद्ध लेखक देवदत्त पटनायक बताते हैं। गंगा और यमुना जैसी पवित्र नदियों का उद्गम स्थल उत्तराखंड को अक्सर पवित्र भारत का उत्तरी बिंदु माना जाता है, यहाँ तक कि कश्मीर से भी अधिक महत्वपूर्ण। आदि शंकराचार्य ने अपने चार मठों की स्थापना करते समय कश्मीर को न चुनकर उत्तराखंड को चुना, जो मध्य हिमालय को हिंदू धर्म में पवित्र स्थान देने का प्रमाण है।

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

 

उत्तराखंड के मंदिरों का प्रभाव पूरे भारत में हिंदू मंदिरों के डिजाइन पर देखा जा सकता है। ये मंदिर शंकु के आकार की छतों से सुशोभित हैं, जो कैलाश पर्वत का प्रतीक हैं, और द्वारों पर नदी-देवी-देवताओं की नक्काशियां हैं। यह भौगोलिक नकल इस बात को रेखांकित करती है कि हिंदू परंपराओं में उत्तराखंड को कितना आध्यात्मिक और सांस्कृतिक महत्व दिया जाता है।

 

पटनायक के विचार कश्मीर को उत्तरी आध्यात्मिक शिखर के रूप में व्याप्त गलतफहमी को चुनौती देते हैं, और हिंदू पवित्र भूगोल को आकार देने में उत्तराखंड की महत्वपूर्ण भूमिका पर जोर देते हैं। यह लेख हिंदू धर्म के भीतर समृद्ध सांस्कृतिक विविधता की गहरी समझ को प्रोत्साहित करता है, और उत्तराखंड को ईश्वरीय से जुड़ी भूमि के रूप में सम्मान को उजागर करता है।

Related Articles

Back to top button