Cricket

भारत बनाम इंग्लैंड, चौथा टेस्ट: रांची सतह तनाव भीषण श्रृंखला में एक और परत जोड़ता है

भारत और इंग्लैंड के बीच चौथे टेस्ट में रांची की पिच ने इस सीरीज में एक नया रोमांचक मोड़ ला दिया है। भारत इस टेस्ट में अपने अब तक के सबसे कम अनुभवी ग्यारह खिलाड़ियों के साथ मैदान में उतर रहा है और ऐसी स्थिति में पिच का बर्ताव एक बड़ा सवाल बन गया है। विक्रम राठौर भले ही टर्न लेने की संभावना के बारे में बातें कर रहे हैं, लेकिन अनुभवी राख़ीं साहब और रविचंद्रन अश्विन जैसे खिलाड़ी भी पिच के बारे में स्पष्ट रूप से कुछ नहीं कह पा रहे हैं।

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

 

इंग्लैंड भले ही कह रहा हो कि वे पिच को कम महत्व दे रहे हैं, लेकिन उनकी टीम द्वारा पिच का बारीकी से निरीक्षण करना उनकी चिंता को दर्शाता है। रांची की पिच में आम भारतीय पिचों की तरह दरारें और असमान घास का आवरण है, जो दोनों टीमों के लिए सतर्कता बरतने का संकेत देता है। बेन स्टोक्स पिच देखकर हैरान रह गए और उन्होंने परिस्थितियों के अनुकूल ढलने की आवश्यकता पर जोर दिया।

 

भले ही स्पिन के अनुकूल पिच होने की चर्चा तेज़ हो रही है, लेकिन इतिहास बताता है कि जल्दबाजी में कोई निष्कर्ष निकालना ठीक नहीं होगा। पिचों को दोनों टीमों के लिए संतुलित बनाना आम बात है। इंग्लैंड ने अपनी रणनीति में बदलाव करते हुए उछाल को नियंत्रित करने के लिए लंबे गेंदबाजों को शामिल किया है, जो यह दर्शाता है कि वे पिच के विभिन्न परिस्थितियों के लिए तैयार हैं।

 

जैसे-जैसे सीरीज आगे बढ़ेगी, दोनों टीमों के लिए पिच की बारीकियों के अनुसार खुद को ढालना महत्वपूर्ण होगा। भारत सीरीज जीतने के लिए लड़ाकू है, तो वहीं इंग्लैंड रांची में वापसी की राह तलाश रहा है। यह टेस्ट मैच निश्चित रूप से रोमांचक होगा, जिसमें रणनीति और अनुकूलन की परीक्षा होगी।

Related Articles

Back to top button