Politics

भारत को रूस से तेल खरीदने से कोई नहीं रोक सकता: जयशंकर

यूरोप और अमेरिका द्वारा रूस पर लगाये प्रतिबंधों के बावजूद भारत रूस से तेल खरीदने को लेकर अडिग है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने जर्मनी में हुए म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन में जर्मन आर्थिक दैनिक हैंडल्सब्लट को दिए साक्षात्कार में ये बात दोहराई। उन्होंने भारत और रूस के बीच के मजबूत और मैत्रीपूर्ण संबंधों को रेखांकित करते हुए कहा कि रूस ने हमेशा भारत के हितों का समर्थन किया है।

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

 

जयशंकर ने अन्य देशों के रिश्तों की तुलना करते हुए कहा कि भारत और रूस के बीच दशकों का भरोसेमंद रिश्ता है, जो किसी तीसरे देश से प्रभावित नहीं हो सकता। उन्होंने तर्क दिया कि कोई भी देश अपना इतिहास और अनुभवों के आधार पर अपने संबंधों को तय करता है। उन्होंने चीन के साथ 2020 में हुई सीमा संघर्ष का हवाला देते हुए कहा कि यूरोप को भी चीन और रूस के साथ भारत के रिश्ते को स्वीकारना चाहिए।

 

जयशंकर ने यूरोप के साथ भारत के अच्छे संबंधों को दोहराते हुए कहा कि दोनों पक्षों के बीच रचनात्मक बातचीत हो रही है। उन्होंने ऊर्जा संकट के मद्देनजर भारत के तेल आयात के फैसले को व्यावहारिक बताया और कहा कि यह बाजार को स्थिर करने में मदद करेगा।

 

जयशंकर के ये बयान अंतरराष्ट्रीय संबंधों में भारत के सूक्ष्म दृष्टिकोण को दर्शाते हैं, जहां वो अपने हितों को प्राथमिकता देते हुए, बदलते वैश्विक परिदृश्य में संतुलन बनाए रखने का प्रयास कर रहे हैं।

Related Articles

Back to top button