Politics

रायसीना डायलॉग में जयशंकर ने चीन से संबंधों की चुनौतियों को किया संबोधित, सीमा विवाद पर रहा फोकस!!

विदेश मंत्री जयशंकर ने रायसीना डायलॉग में भारत-चीन संबंधों की पेचीदगियों, खासकर लद्दाख सीमा विवाद का मुद्दा उठाया। उन्होंने चीन की “मनोवैज्ञानिक चालबाजियों” से सावधान रहने की चेतावनी दी और भारत को वैश्विक परिदृश्य को ध्यान में रखते हुए अपने अधिकारों का दावा करने की सलाह दी।\

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

 

जयशंकर ने रिश्ते में संतुलन की आवश्यकता पर जोर दिया, यह भी स्वीकार करते हुए कि इसे प्राप्त करना और बनाए रखना मुश्किल है। उन्होंने चीन के स्थापित नियमों से भटकने की प्रवृत्ति पर प्रकाश डाला, जिससे तनाव पैदा हुआ, और व्यापक भू-राजनीतिक कारकों को संबोधित करने के महत्व पर बल दिया।

 

आर्थिक अनुमानों का हवाला देते हुए, जयशंकर ने बताया कि 2075 तक भारत और चीन दोनों के 50 ट्रिलियन डॉलर से अधिक की अर्थव्यवस्थाएं बनने की संभावना है, जो उनके विकास पथों में अभिसरण का संकेत देता है। चीन के वर्तमान आर्थिक लाभ को स्वीकार करते हुए भी, जयशंकर भारत के भविष्य के विकास के बारे में आशावादी बने रहे, जो चीन को पीछे छोड़ सकता है।

 

उन्होंने इस धारणा के खिलाफ चेतावनी देकर निष्कर्ष निकाला कि द्विपक्षीय संबंध दुनिया के बाकी हिस्सों से अलग हैं, कूटनीति के लिए एक अधिक व्यापक दृष्टिकोण का आग्रह किया।

Related Articles

Back to top button
× How can I help you?