धर्म कथाएंसमाचारहिन्दू धर्म कथाएं

देश के हालात पर नामी ज्योतिषियों ने की भविष्यवाणी, इस समय से सब सामान्य…

Jyotishacharya coronavirus in india because of This is the year of Rahu

दिल्ली. देश के बदले हालात को लेकर सभी के मन में सवाल है कि इस सभी से कब मुक्ति मिलेगी? यह बात आज हर किसी के मन में खटक रही है। वहीं देश दुनिया के विशेषज्ञ इस समस्या का हल खोजने में जुटे हुए हैं। वहीं हमारी सरकार भी जनता को इस परेशानी से बचाने में बड़े-बड़े कदम उठा रही है।

जनता भी लॉकडाउन का पालन करते हुए देश के साथ अपने घरों में रह रही है। इन सभी बातों के साथ हमने देश के उन जगहों के नामी ज्योतिषियों की राय जानी जहां से समय-समय पर कुंभ यानी सिंहस्थ होता है। ज्योतिष विद्वानों का कहना है कि यह साल राहू का साल है। 14 अप्रैल से कोरोना का असर कम होने लगेगा। मई माह तक यह काबू में आ जाएगा। मगर इसका प्रभाव सितंबर तक रह सकता है। ऐसा ज्योतिषियों का कहना है।

यह भी पढ़ें- कोरोना के खत्म होने को लेकर Astrologer सुमिता सुमन की भविष्यवाणी

 

 

100 साल में पहली बार हुआ जब ऐसे हालात देश में बने हैं। यह ज्योतिष शास्त्र में भी शोध करने का विषय बन चुका है। उज्जैन के पं. आनंद शंकर व्यास का कहना है कि 25-27 दिसंबर 2019 तक षडग्रही योग बने थे। इसके चलते कोरोना की शुरुआत हुई। फरवरी 1962 में अष्टग्रही योग बना था। 23 मार्च से मकर में मंगल का प्रवेश हो गया, जहां शनि, गुरु पहले से हैं। इससे महामारी फैली। अप्रैल के दूसरे सप्ताह में भीषण रूप दिखेगा। मई से राहत मिलेगी। सौ साल में ऐसे कोई ग्रह योग नहीं बने, जिनसे ऐसी स्थिति बनी हो। यह शोध का विषय है। इस पर ज्योतिष विद्वान शोध भी करेंगे।

यहां वीडियो में देखें भविष्यवाणी…

भारत में कम नुकसान और गुरु-शुक्र से अच्छा फल

भारत में कम नुकसान होने के आसार नजर आ रहे हैं। दरअसल कई देशों में भारी भरकम नुकसान हुआ है। हरिद्वार के डॉ. हरिदास शास्त्री ने बताया कि कोरोना से भारत में इतना नुकसान नहीं होगा, जितना अन्य देशों में हुआ है। इस बार देवी नाव पर सवार हो कर आई हैं, इसलिए शुभता की शुरुआत हो गई है। इस साल के राजा बुध हैं और मंत्री चंद्रमा। बुध और चंद्र के राज में घबराने की जरूरत नहीं है। इस वर्ष की कर्क लग्न की कुंडली का स्वामी चंद्र है। यानी रोग भय कम होगा। गुरु और सूर्य का परिवर्तन अच्छा फल देगा। दुसरे देशों की तुलना में जान और माल का भारत में कम नुकसान होगा। कई देशों में इसके कारण भारी नुकसान हुआ है, लेकिन भारत को राहत मिलेगी।

6 मई के बाद ग्रहों के परिवर्तन से ही कोरोना से मुक्ति मिलने की संभावना

काशी के प्रोफेसर रामचंद्र पांडे ने बताया कि कोरोना से राहत की शुरुआत 13 अप्रैल को मेष संक्रांति के साथ हो जाएगी। 14 अप्रैल से लोग राहत महसूस करेंगे। मेष संक्रांति की कुंडली भी अच्छे समय का संकेत कर रही है। सूर्य अपनी उच्च राशि में आएंगे तो उनका प्रभाव शुरू हो जाएगा। गुरु, मंगल व शनि की मकर में युति से अभी यह प्रभाव दिख रहा है। 6 मई से कोरोना का प्रभाव क्षीण होने लगेगा। असर सितंबर तक रहेगा। 14 अप्रैल से राहत भरा समय शुरु होने वाला है। इसके बाद लोगों की समस्याएं कम होंगी। ऐसा ज्योतिषियों का अनुमान है।

यहां वीडियो में देखें….

 

यह भी पढ़ें- समाज / क्या है कोरोना हॉटस्पॉट ? जानें हॉटस्पॉट जोन में क्या करें और क्या ना करें…

4 मई को बदलेगी मंगल की राशि

जयपुर के पंडित विनोद शास्त्री ने बताया कि 11 मई 2020 को बृहस्पति के वक्री होने के बाद से इसका असर कमजोर होगा। 4 मई को मंगल भी राशि बदलेंगे। इसके बाद कोरोना का असर कम होना शुरू हो जाएगा। प्रयागराज के प्रशांत श्रीवास्तव ने बताया कि 2020 का योग 4 है, जो राहु का अंक है। उथल-पुथल तो मचेगी ही। इस पर ग्रह योगों के कारण स्थिति विकट हो गई है। आने वाले समय में ग्रहों के और उथल-पुथल नजर आएंगे। इस वायरस से डरने और घबराने की जरुरत नहीं है। ज्योतिषियों की मानें तो अब कुछ ही समय बाकी हैं, मुश्किल समय हमने पूरा कर लिया है।

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Technically Supported By : Infowt Information Web Technologies

error: Content is protected !!