धार्मिक स्थल

जानके होंगे हेयरां: कुंभ मेले का इतिहास और महत्व!!

कुंभ मेला, हिंदू धर्म के सबसे भव्य समारोहों में से एक है, जो हर तीन साल में आयोजित किया जाता है। इस दौरान लाखों श्रद्धालु पवित्र गंगा नदी में स्नान करके आध्यात्मिक शुद्धि प्राप्त करने की कामना से मेले में आते हैं। यह मेला बारी-बारी से हर 12 साल में प्रयाग, उज्जैन, नासिक और हरिद्वार में आयोजित किया जाता है।

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

2021 में आयोजित हरिद्वार कुंभ मेला मकर संक्रांति के दिन (14 जनवरी) से अप्रैल तक कुल 48 दिनों का था, जो सामान्य साढ़े तीन महीने की अवधि से भिन्न था। इसका महत्व हिंदू पौराणिक कथाओं में निहित है, जिसका संबंध देवताओं और दानवों द्वारा अमृत प्राप्त करने के लिए किए गए समुद्र मंथन से जुड़ा है। संघर्ष के दौरान, अमृत की बूंदें उन चार स्थानों पर गिरीं, जहां आज कुंभ मेला मनाया जाता है।

ऐतिहासिक रूप से, इसकी उत्पत्ति लगभग 2000 साल पहले की मानी जाती है, जिसका सबसे पहला लिखित विवरण चीनी यात्री, ह्वेन त्सांग द्वारा, राजा हर्षवर्धन के शासनकाल में दर्ज किया गया था। यह प्राचीन परंपरा आज भी आध्यात्मिक नवीनीकरण और दिव्य आशीर्वाद की तलाश करने वाले भक्तों को अपनी ओर आकर्षित करती है।

Related Articles

Back to top button
× How can I help you?