astrology

अमित जोशी से जानिए अपने नया घर खरीदने से पहले 5 आवश्यक वास्तु शास्त्र जांच!

अपना नया घर खरीदने से पहले, यह सुनिश्चित कर लें कि यह वास्तु सिद्धांतों के अनुरूप है ताकि आपके जीवन में सद्भाव और सकारात्मकता का वास हो। यहां विचार करने के लिए पांच आवश्यक वास्तु जांच हैं:

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

1. उत्तर-पूर्व दिशा: यह क्षेत्र सकारात्मकता का प्रतीक है और इसे साफ, सुव्यवस्थित और अव्यवस्था से मुक्त होना चाहिए। इस क्षेत्र में शौचालय या रसोईघर वाले भवनों से बचें, क्योंकि यह सकारात्मक ऊर्जा और उत्पादकता का केंद्र है।

2. रसोईघर का स्थान: अग्नि तत्व का प्रतिनिधित्व करने वाली रसोई आदर्श रूप से दक्षिण-पूर्व और दक्षिण दिशाओं के बीच स्थित होनी चाहिए। यह व्यवस्था पाक कला के आनंद, रिश्तों में गर्मजोशी और आर्थिक समृद्धि को बढ़ावा देती है।

3. प्रवेश द्वार की दिशा: न केवल सामने की दिशा पर बल्कि मुख्य द्वार के स्थान पर भी ध्यान दें। दक्षिण-मुखी घर जिनमें प्रवेश द्वार ठीक दक्षिण में है या पूर्व-मुखी घर जिनमें प्रवेश द्वार पूर्व दिशा में है, शुभ माने जाते हैं, जबकि दक्षिण-पूर्व दिशा में प्रवेश द्वार से बचा जाना चाहिए।

4. ऊर्जा का वितरण: विभिन्न दिशाएं अलग-अलग ऊर्जा लेती हैं, जो रहने वालों के स्वास्थ्य को प्रभावित करती हैं। वास्तु के दिशानिर्देशों के अनुसार कमरे के स्थान की योजना बनाएं, शौचालय और भंडारण को कम ऊर्जा वाले क्षेत्रों में और रसोई और शयनकक्ष जैसे आवश्यक स्थानों को उत्पादक क्षेत्रों में रखें।

5. प्रकृति की उपस्थिति: सूरज की रोशनी, क्रॉस वेंटिलेशन और हरियाली जैसे प्राकृतिक तत्व स्वस्थता में योगदान करते हैं। पर्याप्त प्राकृतिक प्रकाश और वेंटिलेशन वाले घर, साथ ही साथ आस-पास के हरित क्षेत्र, सकारात्मकता और ऊर्जा को बढ़ावा देते हैं।

याद रखें, ये वास्तु टिप्स विज्ञान पर आधारित हैं और इनके लिए जरूरी नहीं कि संरचनात्मक या बड़े आंतरिक परिवर्तन की आवश्यकता हो। विशेषज्ञ की सलाह आपको अपने स्थान को प्रभावी ढंग से संरेखित करने में मदद कर सकती है, यह सुनिश्चित करते हुए कि आपका सपनों का घर सकारात्मकता और सफलता का प्रसार करे।

Related Articles

Back to top button
× How can I help you?