Business worldPolitics

पेटीएम घोटाला! मोदी समर्थक संस्थापक पर घोटाले का आरोप!

भुगतान बैंक को लेकर आरबीआई के प्रतिबंधों के बाद जांच का सामना कर रहा पेटीएम अब कांग्रेस की भी नजर में आ गया है, जिससे प्रवर्तन निदेशालय के रुख को लेकर सवाल उठ रहे हैं। कांग्रेस नेता सुप्रिया श्रिनेत ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक के प्रति लंबे समय से नरमी बरतने पर चिंता जताई है, और इसके पीछे संस्थापक का पीएम मोदी के कथित समर्थन को वजह बताया है। उन्होंने चुनावी रैलियों में पेटीएम के लिए पीएम मोदी के समर्थन को रेखांकित किया और प्रधानमंत्री के सहयोगियों के खिलाफ आरोपों के बीच एजेंसियों की चुप्पी पर सवाल उठाए।

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

 

पेटीएम ने प्रवर्तन निदेशालय द्वारा किसी चल रही जांच से इनकार करते हुए कहा है कि वह पिछले व्यापारी/उपयोगकर्ता संबंधी जांचों में अधिकारियों के साथ सहयोग कर रहा है। कंपनी ने भारतीय कानूनों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता और विनियामक आदेशों का पालन करने पर स्पष्टीकरण दिया।

 

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि आरबीआई अगले महीने पेटीएम पेमेंट्स बैंक का ऑपरेटिंग लाइसेंस रद्द कर सकता है, जिसमें ग्राहक दस्तावेज़ीकरण नियमों के कथित दुरुपयोग और महत्वपूर्ण लेनदेन के गैर-प्रकटीकरण सहित संभावित उल्लंघन का हवाला दिया गया है। नई जमा राशि स्वीकार करने की समय सीमा 29 फरवरी को समाप्त हो रही है।

 

अटकलों के उभरने के साथ, पेटीएम धन शोधन विरोधी गतिविधियों में शामिल होने से इनकार करता है और भारतीय कानूनों के अनुपालन की पुष्टि करता है। सामने आ रही स्थिति भारत में व्यापारिक संस्थाओं और राजनीतिक हस्तियों के बीच संबंधों पर सवाल उठाती है, जिससे विनियामक निरीक्षण और जवाबदेही पर व्यापक बहस छिड़ गई है।

Related Articles

Back to top button