आज का राशिफलज्योतिष

2002-2003 में फैली सार्स महामारी के बाद राहु फिर से गोचर कर रहे हैं वृष राशि में…

आज का पंचांग- दिनांक 23.09.2020… शुभ संवत 2077 शक 1942 सूर्य दक्षिणायन का प्रथम (अधिक) आश्विन मास शुक्ल पक्ष सप्तमी तिथि …रात्रि को 07 बजकर 58 मिनट तक … दिन … बुधवार … ज्येष्ठा नक्षत्र … रात्रि को 08 बजकर 25 मिनट तक … आज चंद्रमा … वृश्चिक राशि में … आज का राहुकाल दिन को 11 बजकर 56 मिनट से 01 बजकर 26 मिनट तक होगा …

वर्ष 2002-2003 में फैली सार्स महामारी के समय भी गोचर में राहु वृषभ राशिगत थे, उस समय भी शनि राहु का द्विद्धादश योग बन रहा था और इस समय भी शनि राहु का षड़ाष्टक योग बन रहा है। वृष राशि में राहु 18 महीने तक रहेगा. मिथुन राशि से निकल कर राहु 23 सितंबर 2020 से 12 अप्रैल 2022 वृष राशि में ही रहेगा. ज्योतिष शास्त्र में राहु का एक पाप ग्रह माना गया है. इस छाया ग्रह भी कहा जाता है. राहु को अशुभ फल प्रदान करने वाला ग्रह माना जाता है लेकिन राहु शुभ फल भी प्रदान करता है. लेकिन इसकी स्थिति जन्म कुंडली में राहु की स्थिति पर निर्भर करता है. राहू केतु की इस स्थिति के कारण आप बहुत कड़वा बोलते हैं। आप बहुत मतलबी हैं और नकारात्‍मक होने के कारण मानसिक रूप से ज्‍यादा व्‍यस्‍त रहते हैं। इस स्थिति में आप अपनी समस्‍याओं को खुद ही निमंत्रण देते हैं और फिर पूरी कोशिशि करते हैं कि इसका ठीकरा आप किसी और के सर पर फोड़ सकें। बहुत छोटी छोटी चीजों को लेकर भी आप जल्‍द ही परेशान हो जाते हैं। आप खुद तो संशय में रहते हैं और दूसरों को भी संशय में डाले रखते हैं। आप कठोर, त्‍वरित और मजबूत फैसले लेने में अक्षम हैं। यह संभव है कि आप किसी के प्रति बहुत मददगार हों लेकिन यह भी आप इस हद तक करते हैं कि उसके लिए आप एक समस्‍या बन जाते हैं। राहू केतु की यह स्थिति आपको कभी संपन्‍नता का भाव नहीं देती आप हमेंशा जीवन से शिकायत ही करते रहते हैं। सामान्य उपाय करने के बावजूद भी उनको कष्टों से राहत नहीं मिल रही है वो कुछ अन्य उपाय भी कर सकते हैं, जो आपको अशुभ योग से बचा सकते हैं-

1. त्रयोदशी के दिन रुद्राभिषेक करें.
2. शनिवार को कंबल किसी को दान कर दें.
3. ब्राह्मण को खाना खिलायें.
4. लोहे का दान करें.
5. शनिवार और बुधवार को भैरव बाबा के मंदिर जाकर दर्शन करें.
6. चिड़िया को दाना दें और कुत्ते को खाना खिलायें.
7. 108 बार ॐ रां राहवे नम: मंत्र का जाप हर शाम करें.
8. 108 बार ॐ कें केतवे नम: मंत्र का जाप हर शाम करें.
ज्योतिषशास्त्र के अनुसार, राहु और केतु नवग्रहों में पाप ग्रह माने जाते हैं लेकिन नवग्रहों में इनका भी अपना अलग महत्व है. माना जाता है कि ये ग्रह अगर किसी के लिए सकारात्मक हों तो रंक से राजा बना दें पर यह अगर नकारात्मकता पर उतर आएं तो राजा को रंक बना दें. ये दोनों 18 माह में एक बार राशि परिवर्तन करते हैं और दोनों एक साथ ही राशि परिवर्तन करते हैं. इस माह की 23 तारीख को राहु वृषभ राशि में और केतु वृश्चिक राशि में प्रवेश कर रहे हैं.
ग्रहों के इस राशि परिवर्तन का असर पूरी दुनिया पर होगा, जहां एक तरफ महंगाई बढ़ सकती है. धनभाव में राहु आने से धन संपदा में कमी, पारिवारिक सुख में विवाद तथा मतभेद साथ ही परिवार में स्वास्थ्यगत खर्चे बढ़ सकते हैं।
राहु-केतु के राशि परिवर्तन का प्रभाव 12 राशियों पर भी पड़ेगा.
आइए जानते हैं कि कौन सी राशि के जातकों को लाभ होगा और किस राशि के लोगों को इसके परिणामस्वरुप विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ेगा-

आज के राशियों का हाल तथा ग्रहों की चाल- rahu ketu transit 2020

मेष राशि –
इस राशि के लोगों के लिए यह समय थोड़ा मुश्किलों से भरा होगा. उनका स्वास्थ्य बिगड़ सकता है एवं मानसिक परेशानी का भी सामना कर पड़ सकता है. परिवार में भी मनमुटाव की संभावना है और सामाजिक कष्ट झेलने की स्थिति भी बन सकती है.
उपाय – प्रतिदिन संकटमोचक हनुमाष्टक का पाठ करें. गाय को चारा खिलायें
वृषभ राशि –
वृषभ राशि के जातकों के लिए भी कष्ट का कारण हो सकतां है वृष राशि के जातक पारिवारिक कष्ट का सामना कर सकते हैं और इनको पुरानी बीमारी फिर से पीड़ित होने का भी योग बन रहा है. सेहत को लेकर सावधान रहें, हालांकि राजनीति से जुड़े लोगों को काफी लाभ होने की संभावना है.
उपाय- प्रतिदिन श्री अष्ट लक्ष्मी मंत्र का जाप करें. चीनी का दान करें
मिथुन राशि –
इस राशि के लोगों को अपने स्वास्थ्य का बेहद ख्याल रखना होगा क्योंकि उन्हें शारीरिक एवं मानसिक कष्ट मिल सकता है, काम से जुड़ा कोई भी निर्णय बहुत सोच-विचार करके लें और धैर्य बनाए रखें.
उपाय – श्री महा विष्णु स्तोत्रम का पाठ करें. पौधो का दान करें
कर्क राशि –
राशि के लोगों के लिए यह समय खुशियां लाएगा. जो धन काफी समय से फंसा हुआ था वह मिल जाएगा और निवेश का योग भी बनेगा परंतु खर्चों में बढ़ोत्तरी होगी. इसीलिए आर्थिक मामलों में सचेत रहें. कार्य में सफलता मिलने का बढ़िया योग है और समाज में मान-सम्मान बढ़ेगा जिससे आत्मविश्वास में भी वृद्धि होगी.
उपाय – श्री कुबेर मंत्र का जाप करें. दूध का दान करें
सिंह राशि –
इस राशि के जातकों के लिए यह काफी लाभदायक समय होगा, वरिष्ठ अधिकारी आपके कामकाज से खुश होंगे और तरक्की के बढ़िया अवसर आएंगे. आय में बढ़ोत्तरी होगी एवं आर्थिक स्थिति मजबूत होगी, परिवारिक रिश्तों में मधुरता आने के साथ-साथ आपको राजनीतिक लाभ भी मिल सकता है.
उपाय – मां लक्ष्मी की आरती करें. नारियल के प्रसाद वितरित करें
कन्या राशि –
आपको बहुत धैर्य और संयम से काम लेना होगा और अपने आप को मानसिक रूप से शांत रखना होगा क्योंकि आने वाला समय आपके लिए कठिन होगा. कामकाज को लेकर सावधान रहें हालांकि परिवार आपका साथ देगा, अचानक से धन लाभ की भी संभावना है.
उपाय – शनिदेव की आरती करें. तिल का दान करें
तुला राशि –
तुला राशि के लोगों के लिए सलाह ये है कि वे अपना फालोअप ठीक से दें और किसी पर भरोसा न करें और कुछ भी भाग्य पर न छोड़ें. किसी भी तरह की मुश्किल के लिए अपने आप को तैयार रखें क्योंकि आपके काम पूरे होते-होते रुक जाने की संभावना दिख रही है. तबियत का खास ख्याल रखें और बड़े और महत्वपूर्ण निर्णय लेने से बचें.
उपाय – गणपति भगवान की आरती प्रतिदिन करें. हरे मूंग का दान करें
वृश्चिक राशि –
वृश्चिक राशि के लोगों के वैवाहिक जीवन में तो खुशियां आएंगी मगर उन्हें वाहन चलाते समय सावधानी बरतने की बहुत जरूरत है. जो लोग शोध के कार्यों से जुड़े हैं, उन्हें बहुत लाभ होने का योग है तथा व्यापारियों के लिए भी अनुकूल समय है. आपको दोस्तों से मदद मिलेगी पर किसी स्त्री के साथ मतभेद होने से जीवन में उथल-पुथल हो सकती है.
उपाय – भगवान शिव की आरती प्रतिदिन करें. चावल का दान करें
धनु राशि –
आप अगर व्यापार करते हैं तो सावधान रहें, साझेदारी में काम करते हैं, तब हर फैसला बहुत सोच-समझकर ही लें, वैवाहिक जीवन में भी परेशानी आ सकती है, पार्टनर से विवाद और तनाव हो सकता है.
उपाय – 108 बार श्री गुरु गायत्री मंत्र का जाप करें.
मकर राशि –
मकर राशि के लोगों के खर्चों में बढ़ोत्तरी होगी परंतु कहीं से बहुत आसानी से धन प्राप्त होने का भी योग है. कामकाज में सफलता मिलने का योग है किंतु प्रत्येक निर्णय काफी सोच-समझकर लेने की जरूरत है. आपके शत्रुओं की स्थिति मजबूत हो सकती है इसीलिए आप बेहद सावधान रहें.
उपाय – 108 बार श्री शनि गायत्री मंत्र का जाप करें.
कुंभ राशि – कुंभ राशि के लोगों को अपनी संतान की तरफ से परेशानी का सामना करना पड़ेगा और इस वजह से वह मानसिक रूप से काफी अशांत रहेंगे. कमकाज में भी अवरोध आएंगे एवं वैवाहिक जीवन में भी उथल-पुथल रहेगी. विद्यार्थियों के लिए सलाह है कि वह परिश्रम में कोई कमी न रहने दें क्योंकि भाग्य ज्यादा साथ नहीं देगा. उपाय – 108 बार ओम नमरू शिवाय का जाप प्रतिदिन करें.
मीन राशि -इस राशि के जातकों के लिए यह समय उत्तम है परंतु कुछ सावधानियां बरतनी जरूरी है. समाज में उनके यश में वृद्धि होगी, जिससे उनका आत्मविश्वास नयी ऊंचाइयों को छुएगा. मित्रों से लाभ मिलेगा और तरक्की का भी योग है परंतु अपने क्रोध पर काबू रखने की बेहद जरूरत है. आपके घर में अगर बड़े-बुजुर्ग हैं तो उनका बहुत ख्याल रखें और परिवार में सबसे बना कर रखें. उपाय – 108 बार ओम नमरू शिवाय का जाप प्रतिदिन करें.

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Technically Supported By : Infowt Information Web Technologies

error: Content is protected !!