समाचार

सां’प काटने का इलाज क्या है?

जब आपको ये पता होगा कि 550 तरह के साँ’प है उनमे से सिर्फ 10 साँ’प ज’हरी’लेहैं ! जिनके का’टने से कोई मरता है ! इनमे से जो सबसे जह’रीला साँ’प है उसकानाम है ! उसके बाद है karit इसके बाद है viper और एक है cob’ra !king cob’ra जिसको आप कहते है काला ना’ग !! ये 4 तो बहुत ही खत’रनाक औरज;हरीले है इनमे से किसी ने काट लिया तो 99 % chances है कि dea- th होगी ! लेकिन अगर आप थोड़ी होशियारी दिखाये तो आप रोगी को बचा सकते हैंहोशियारी क्या दिखनी है ??? आपने देखा होगा साँ’प जब भी काटता है तो उसके दो दाँत है जिनमे जह’र है जोशरीर के मास के अंदर घुस जाते हैं ! और खून मे वो अपना जहर छोड़ देता है! तो फिर ये जहर ऊपर की तरफ जाता है ! मान लीजिये हाथ पर साँ’प ने काटलिया तो फिर जहर दिल की तरफ जाएगा उसके बाद पूरे शरीर मे पहुंचेगा ! ऐसेही अगर पैर पर काट लिया तो फिर ऊपर की और hea- rt तक जाएगा और फिर पूरेशरीर मे पहुंचेगा ! कहीं भी काटेगा तो दिल तक जाएगा ! और पूरे मे खू’न मेपूरे शरीर मे उसे पहुँचने मे 3 घंटे लगेंगे !
मतलब ये है कि रोगी 3 घंटे तक तो नहीं ही म’रेगा ! जब पूरे दिमाग के एक एकहिस्से मे बाकी सब जगह पर जहर पहुँच जाएगा तभी उसकी de- at होगी otherwise नहीं होगी ! तो 3 घंटे का time है रोगी को बचाने का और उस तीन घंटे मेअगर आप कुछ कर ले तो बहुत अच्छा है !

क्या कर सकते हैं ?? ???

घर मे कोई पुराना इंजेक्शन (injection) हो तो उसे ले और आगे जहांसुई(needle) लगी होती है वहाँ से काटे ! सुई(needle) जिस पलास्टिक मे फिटहोती है उस प्लास्टिक वाले हिस्से को काटे !! जैसे ही आप सुई के पीछे लगेपलास्टिक वाले हिस्से को काटेंगे तो वो injection एक सक्षम पाईप की तरहहो जाएगा ! बिलकुल वैसा ही जैसा होली के दिनो मे बच्चो की पिचकारी होतीहै ! उसके बाद आप रोगी के शरीर पर जहां साँ’प ने का’टा है वो निशान ढूँढे !बिलकुल आसानी से मिल जाएगा क्यूंकि जहां साँ’प काट’ता है वहाँ कुछ सूज’न आजाती है और दो निशान जिन पर हल्का खू’न लगा होता है आपको मिल जाएँगे ! अबआपको वो inject’ion( जिसका सुई वाला हिस्सा आपने काट दिया है) लेना है औरउन दो निशान मे से पहले एक निशान पर रख कर उसको खीचना है ! जैसी आप निशानपर injec’tion रखेंगे वो निशान पर चिपक जाएगा तो उसमे vacuum crate होजाएगा ! और आप खींचेगे तो खून उस inject’ion मे भर जाएगा ! बिलकुल वैसे हीजैसे बच्चे पिचकारी से पानी भरते हैं ! तो आप इंजेक्शन से खींचते रहिए!और आप first time निकलेंगे तो देखेंगे कि उस खून का रंग हल्का blacki होगा या dark होगा तो समझ लीजिये उसमे जह’र मिक्स हो गया है !

तो जब तक वो dark और blackish रंग blood निकलता रहे आप खिंचीये ! तो वोसारा निकल आएगा ! क्यूंकि साँप जो काटता है उसमे जहर ज्यादा नहीं होता है0.5 मिलीग्राम के आस पास होता है क्यूंकि इससे ज्यादा उसके दाँतो मे रहही नहीं सकता ! तो 0.5 ,0.6 मिलीग्राम है दो तीन बार मे आपने खीच लिया तोबाहर आ जाएगा ! और जैसे ही बाहर आएगा आप देखेंगे कि रोगी मे कुछ बदलाव आरहा है थोड़ी conscio-usness (चेतना) आ जाएगी ! साँप काटने से व्यकितunco-nscious-ness हो जाता है या semi conscio-usness हो जाता है और जहर कोबाहर खींचने से चेतना आ जाती है ! consciousness आ गई तो वो मरेगा नहीं !तो ये आप उसके लिए first aid (प्राथमिक सहायता) कर सकते हैं ! इसी injection को आप बीच से कट कर दीजिये बिलकुल बीच कट कर दीजिये 50%इधर 50% उधर ! तो आगे का जो छेद है उसका आकार और बढ़ जाएगा और खून औरजल्दी से उसमे भरेगा !तो ये आप रोगी के लिए first aid (प्राथमिक सहायता) के लिए ये कर सकते हैं !

दूसरा एक medicine आप चाहें तो हमेशा अपने घर मे रख सकते हैं बहुत सस्तीहै homeopathy मे आती है ! उसका नाम है NAJA (N A J A ) ! homeop’athymed’icine है किसी भी homeopat’hy shop मे आपको मिल जाएगी ! और इसकीpoten’cy है 200 ! आप दुकान पर जाकर कहें NAJA 200 देदो ! तो दुकानदारआपको दे देगा ! ये 5 मिलीलीटर आप घर मे खरीद कर रख लीजिएगा 100 लोगो कीजान इससे बच जाएगी ! और इसकी कीमत सिर्फ पाँच रुपए है ! इसकी बोतल भी आतीहै 100 मिलीग्राम की 70 से 80 रुपए की उससे आप कम से कम 10000 लोगो कीजान बचा सकते हैं जिनको साँ’प ने काटा है !

और ये जो medicine है NAJA ये दुनिया के सबसे खतरनाक साँप का ही po’isonहै जिसको कहते है क्रैक ! इस साँप का poi’son दुनिया मे सबसे खराब मानाजाता है ! इसके बारे मे कहते है अगर इसने किसी को काटा तो उसे भगवान हीबचा सकता है ! medicine भी वहाँ काम नहीं करती उसी का ये poi’son है लेकिनdelu’sion form मे है तो घबराने की कोई बात नहीं ! आयुर्वेद का सिद्धांतआप जानते है लोहा लोहे को काटता है तो जब जहर चला जाता है शरीर के अंदरतो दूसरे साँ’प का जहर ही काम आता है !

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Technically Supported By : Infowt Information Web Technologies

error: Content is protected !!