धर्म कथाएंसमाचार

बुध- शुक्र की युति से वृषभ राशि में बना लक्ष्मी योग

शुक्र ग्रह अपनी स्वराशि वृषभ में 13 जुलाई तक रहेंगे। इस राशि में बुध पहले से विराजमान हैं। जब एक ही राशि में बुध व शुक्र विराजमान होते हैं तो लक्ष्मी योग बनता है।

shukra budh yuti ज्योतिष शास्त्र में सभी 9 ग्रह एक निश्चित अंतराल पर एक से दूसरी राशि में अपना स्थान बदलते रहते हैं। ग्रहों के राशि परिवर्तन का प्रभाव सभी राशियों के जातकों के जीवन पर जरूर पड़ता है। ज्योतिषशास्त्र में शुक्र ग्रह सुख,सुविधा और ऐशोआराम के कारक ग्रह माने गए हैं। शुक्र ग्रह भौतिक सुखों, जीवनसाथी, प्रेम, वैवाहिक जीवन, कला, साहित्य, भोग-विलास आदि का कारक होता है। जहां कुंडली में शुक्र ग्रह की मजबूत स्थिति व्यक्ति को तमाम सुख-सुविधाएं प्रदान करती है,वहीं इस ग्रह की अशुभ स्थिति जातक को कई प्रकार के सुखों से वंचित कर देती है। shukra budh yuti पाल बालाजी ज्योतिष संस्थान जयपुर – जोधपुर के निदेशक ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि शुक्र ग्रह अपनी स्वराशि वृषभ में 13 जुलाई तक रहेंगे। इस राशि में बुध पहले से विराजमान हैं। जब एक ही राशि में बुध व शुक्र विराजमान होते हैं तो लक्ष्मी योग बनता है। इस योग को ज्योतिष में दुर्लभ माना गया है। बुध व शुक्र की युति से बनने वाला योग कुछ राशि वालों के लिए लाभकारी साबित होगा। shukra budh yuti ज्योतिष में शुक्र को भौतिक सुख, वैवाहिक सुख, भोग-विलास, शौहरत, कला, प्रतिभा, सौन्दर्य, रोमांस, काम-वासना और फैशन-डिजाइनिंग के कारक ग्रह हैं। शुक्र, वृष और तुला राशि के स्वामी होते हैं और मीन इनकी उच्च राशि है, जबकि कन्या इनकी नीच राशि है।

anish vyas astrologer

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

हमारे व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़े Join Now

ज्योतिषाचार्य अनीष व्यास ने बताया कि ज्योतिष में शुक्र को कला, साहित्य व सुख-सुविधा आदि का कारक माना गया है। बुध ग्रह को बुद्धि, व्यापार व संवाद आदि का कारक माना जाता है। मान्यता है कि शुक्र व बुध की स्थिति जन्मकुंडली में उच्च की होने पर जातक को जीवन में किसी चीज की कमी नहीं रहती है। शुक्र के वृषभ राशि में गोचर करने से खासतौर पर मेष राशि, वृषभ राशि, कर्क राशि, वृश्चिक राशि और मकर राशि प्रभावशाली रहेगी। मेष राशि के लिए तरक्की के नए अवसर मिलेंगे, वृषभ राशि के लिए सामाजिक दायरे में बढ़ोतरी होगी।, shukra budh yuti कर्क राशि के लिए अटके हुए धन की वापसी होगी। वृश्चिक राशि के लिए जीवन में सुख शांति के साथ नए नौकरी के अवसर मिलेंगे। मकर राशि के लिए पिताजी का पूरा सहयोग प्राप्त होगा। बाकी अन्य राशियों के लिए गोचर का सामान्य फल रहेगा।

शुक्र के उपाय shukra budh yuti

विश्वविख्यात भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास ने बताया कि मां लक्ष्मी अथवा मां जगदम्बा की पूजा करें। भोजन का कुछ हिस्सा गाय, कौवे और कुत्ते को दें। शुक्रवार का व्रत रखें और उस दिन खटाई न खाएं। चमकदार सफेद एवं गुलाबी रंग का प्रयोग करें। श्री सूक्त का पाठ करें। शुक्रवार के दिन सफेद वस्त्र, दही, खीर, ज्वार, इत्र, रंग-बिरंगे कपड़े, चांदी, चावल इत्यादि वस्तुएं दान करें।

आइए विश्वविख्यात भविष्यवक्ता और कुण्डली विश्ल़ेषक अनीष व्यास से जानते हैं कि शुक्र का वृषभ राशि में प्रवेश करने से राशियों पर क्या प्रभाव पड़ेगा।
मेष राशि

मानसिक शान्ति‍ रहेगी। धार्मिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा, परन्तु कोई अतिरिक्त कार्य भी मिल सकता है। आत्मविश्वास भरपूर रहेगा

वृष राशि

वाणी में मधुरता रहेगी। आत्मसंयत भी रहें। जीवनसाथी के स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। माता का साथ मिलेगा। आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे। धर्म के प्रति श्रद्धाभाव रहेगा

मिथुन राशि

धर्म के प्रति श्रद्धाभाव रहेगा। शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। धन की स्थिति में सुधार होगा। धैर्यशीलता में कमी रहेगी। किसी मित्र का अगमन हो सकता है। वाहन सुख में वृद्धि हो सकती है।

कर्क राशि

आत्मविश्वास में कमी आयेगी। मन अशान्त रहेगा। परिवार के साथ किसी धार्मिक स्थान की यात्रा पर जा सकते हैं। सेहत का ध्यान रखें। संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं।

सिंह राशि- मन प्रसन्न रहेगा। किसी पुराने मित्र से भेंट हो सकती है। सुस्वादु खानपान में रुचि रहेगी। मित्रों के साथ यात्रा पर जा सकते हैं। अपनी भावनाओं को वश में रखें। जीवनसाथी से वैचारिक मतभेद हो सकते है। कारोबार में किसी मित्र का सहयोग मिल सकता है। शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी।

कन्या राशि

संयत रहें। क्रोध से बचें। बातचीत में सन्तुलित रहें। नौकरी में स्थान परिवर्तन की सम्भावना बन रही है। परिवार से दूर रहना पड़ सकता है। माता के स्‍वास्‍थ्‍य में सुधार होगा।

तुला राशि

परिवार का साथ मिलेगा। आय वृद्धि में किसी मित्र का सहयोग मिल सकता है। मन अशान्त रहेगा। पारिवारिक जीवन कष्टमय रहेगा। किसी सम्पत्ति से धनार्जन के साधन बन सकते हैं। स्वास्थ्‍य के प्रति सचेत रहें।

वृश्चिक राशि

आत्मविश्वास में कमी रहेगी। व्यर्थ के विवाद एवं झगड़ों से दूर रहें। पिता का सानिध्य मिलेगा। जीवनसाथी को स्‍वास्‍थ्‍य विकार रहेंगे। खर्चों की अधिकता रहेगी। फिर भी आत्‍मविश्वास से लबरेज रहेंगे।

धनु राशि

क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा के भावमन में रहेंगे। बातचीत में संयत रहें। पारिवारिक जीवन कष्टमय हो सकता है। खर्च अधिक रहेंगे। माता-पिता का सानिध्य मिलेगा। धार्मिक संगीत के प्रति रुझान बढ़ेगा।

मकर राशि

मन में उतार-चढ़ाव रहेंगे। आलस्य भी अधिक हो सकता है। कारोबार में परिवर्तन की सम्भावना बन रही है। सेहत का ध्यान रखें। क्रोध में कमी आएगी। नौकरी में कार्यक्षेत्र में कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।

कुंभ राशि

मन प्रसन्न रहेगा। दाम्पत्य सुख में वृद्धि होगी। परिवार की जिम्मेदारी भी बढ़ सकती है। परिश्रम अधिक रहेगा। खर्च भी अधिक रहेंगे। शैक्षिक एवं बौद्धिक कार्यों में सफलता मिलेगी।

मीन राशि

परिवार का साथ मिलेगा। वाहन सुख में वृद्धि होगी। धन की स्थिति सन्तोषजनक रहेगी। स्वास्थ्‍य का ध्यान रखें। मन अशांत रहेगा। आत्‍मविश्वास में कमी आएगी।

Related Articles

Back to top button