धर्म कथाएंधर्म प्रवर्तक और संत

जीवन में सफलता के लिए अपनाएं ये आसान टिप्स

Chanakya Niti and Ethics Of Chanakya Niti for Success

अब तक हमने आचार्य चाणक्य के बारे में और उनकी चाणक्य नीति के बारे में बात की है। वे रहस्य आपको बताएं हैं जो एक इंसान को सफल और असफल दोनों ही बनाते हैं। आज हम यहां आपको कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं जिनका प्रयोग खुद उन्होंने किया था। कहा जाता है कि चंद्रगुप्त उन्हें कुशा उखाड़ते वक्त मिला था और कुछ स्थानों पर यह भी वर्णित है कि जब चंद्रगुप्त राज दरबार का खेल जंगल में अपने मित्रों के साथ खेल रहा था तब चंाणक्य ने चंद्रगुप्त को देखा और उन्हें उनके माता पिता से ले लिया। इसके बाद ही भारत देश की एक ऐसी इबारत लिखि गई जिसे हम जब भी पढ़ते या सुनते हैं स्वर्णिम अक्षरों में पाते हैं।

-यह सफर कैसे तय हुआ उनके बारे में भी आचार्य विष्णुगुप्त ने बताया है। जिनका पालन मनुष्य को सफल बना सकता है।

-कभी किसी का अपमान नही करना चाहिए फिर चाहे वह आपका सहपाठी हो या कनिष्ठ, अपमान की ज्वाला जीवन में सबसे बुरी मानी गई है जो इंसान को कुछ भी करने मजबूर कर देती है।
-यदि आपका कोई शत्रु है तो उसके शत्रु से मित्रता करिए यह आपके लिए फायदेमंद होगा, यह ताकत को दोगुना करता है। इसका उल्लेख अर्थशास्त्र में भी दिया गया है।

Read also: कभी किसी को ना बताएं अपने ये सीक्रेट्स

-किसी भी व्यक्ति को अपने व्यक्तिगत रहस्य ना बताएं, आगे की योजना अपने तक तब तक रखें जब तक उसके सफल होने का समय ना आ जाए, फिर चाहे वह आपका कितना ही विश्वासपात्र व्यक्ति क्यों ना हो।

-किसी भी स्थिति में अनजान व्यक्ति की बातों में आकर उस पर दयाभाव ना दिखाएं। यह दया आपके लिए आगे चलकर दुख का कारण बन सकती है। फिर चाहे वह कोई स्त्री ही क्यो ना हो। पूर्ण जानकारी के बाद ही किसी की भी अतिरेक सहायता के लिए आगे बढ़ें। हालांकि दीन-हीन की पहचान करना ही एक सफल मनुष्य की निशानी है।

Read also: जीवन को आसान बनाएंगी चाणक्य की बतायी गई ये नीति

-जीवन में कभी भी अतीत का शोक ना करें, सदा आगे बढ़ते रहें एक ना एक दिन उचित मार्ग अवश्य ही मिलेगा। कर्म योगी मनुष्य को कभी अतीत के पन्ने पलटकर उस पर दुखी नही होना चाहिए। जीवन में सफल वही होता है जो निरंतर चलता रहता है फिर चाहे परिस्थितियां कितनी भी विपरीत ही क्यों ना हो जाएं। chankya niti for succsess

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Technically Supported By : Infowt Information Web Technologies